A tortuous pain


मेरी हसरतें बहुत हैं 
मेरे हौसले बड़े हैं 
सब पर पड़ा हुवा है 
मजबूरियों का साया 
जज़्बात की न पूछो 
सपनें बहुत हैं मेरे 
खाका निगाह में है 
तस्वीर दे न पाया। 


दिन की थकान लेकर 
मग़रिब के घोंसले में 
वोह थकी थकी शुआएँ 
मेरा दर्द जानती हैं 
शब् जिनकी सिसकियों में 
सुबह बीती आँसुवों में 
शबनम से तर वोह कलियाँ 
मेरा हाल जानती हैं। 

A few lines from my otherwise a longer poem
-- 
Post a Comment

addy-2